समदड़ी क्षेत्र देवलियाली निवासी मासूम गिरधारी के लिए संजीवनी बनेगी मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना

0
22

हनुमानराम चौधरी

गिरधारी के लिए संजीवनी बनेगी मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना


बाड़मेर जिला कलक्टर की पहल सीता देवी का चिरंजीवी योजना में पंजीयन कराया
बाड़मेर,07 अक्टूबर। गंभीर बीमारी से ग्रसित मासूम गिरधारी के लिए अब मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना संजीवनी बनेगी। बाड़मेर जिला कलक्टर लोक बंधु ने पहल करते हुए उसके परिवार का मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में पंजीकरण करवाया। मासूम गिरधारी का बालोतरा के निजी अस्पताल में उपचार चल रहा है।

मासूम गिरधारी का होगा इलाज


बाड़मेर जिला कलक्टर लोक बंधु को सोशल मीडिया से जानकारी मिली कि देवलियाली निवासी मासूम गिरधारी का उपचार नहीं हो पा रहा है। उसके पिता की मृत्यु हो चुकी है। इस पर उन्होने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा.चन्द्रशेखर गजराज को वस्तुस्थिति से अवगत कराने के निर्देश दिए। खंड मुख्य चिकित्सा अधिकारी सिवाना से पता करने पर उन्होंने बताया कि बाड़मेर जिले के देवलियाली निवासी कवली का छह वर्षीय पुत्र गिरधारी पिछले काफी समय से गंभीर बीमारी से ग्रसित है। उसके गले से होते हुए शरीर के तरफ गहरा घाव होने के साथ उसमे कीड़े पड़े हुए है। उसका पेट फुला हुआ रहता है। इस मासूम के पिता एवं भाई की मौत उपचार के लिए जोधपुर के लिए रेफर करने पर हो गई थी। इसलिए इसकी माता जोधपुर अथवा अन्य स्थान पर उसके उपचार के लिए जाने को तैयार नहीं है। उससे काउंसलिंग करने का प्रयास किया गया। लेकिन वह राजी नहीं हुई। इसका 2 अक्टूबर से बालोतरा के पुष्पा अस्पताल में उपचार चल रहा है। इससे पूर्व उसने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र समदड़ी एवं जिला अस्पताल बालोतरा मे चिकित्सक से परामर्श लेकर अपने गांव वापिस आ गई। खंड मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने अवगत कराया कि इसका चिरंजीवी योजना मे पंजीकरण नहीं हो रखा है। यह जानकारी मिलने पर जिला कलक्टर लोक बंधु ने पहल करते हुए स्वयं 850 रूपए जमा करवाकर इस परिवार का मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में पंजीकरण कराया। अब इस परिवार का जोधपुर अथवा अन्य अस्पताल में निःशुल्क उपचार हो सकेगा। जिला कलक्टर लोक बंधु के मुताबिक यथासंभव स्थानीय स्तर पर मासूम गिरधारी का समुचित उपचार करवाया जाएगा। इसके अलावा उच्च संस्थान में भेजने की जरूरत पड़ने पर गिरधारी की माता की दुबारा काउंसलिंग करवाई जाएगी। मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में पंजीयन होने के बाद अब उसके परिवार को 10 लाख रूपए तक का निःशुल्क उपचार मिल सकेगा।
काउंसलिंग के बाद भी रेफर को तैयार नहीं अपने पति एवं बेटे को असमय खोने के बाद गिरधारी की माता कवली काफी चितिंत है। काउंसलिंग के बाद भी अपने बेटे को रेफर करने के लिए तैयार नहीं है। ऐसे में यथासंभव उसकी मंशा के अनुरूप मासूम गिरधारी का स्थानीय स्तर पर बेहतरीन उपचार कराया जाएगा।

देवलियाली निवासी मासूम गिरधारी का इलाज के लिए परेशान थी मां कवली


मदद के लिए उठे हाथ मासूम गिरधारी के उपचार के लिए फिलहाल पुष्पा अस्पताल की ओर से दवाई एवं जांच तथा स्वयंसेवी संगठन रक्त कोष मित्र मंडल सेवा संस्थान बालोतरा, की ओर से खाने एवं कपड़े की व्यवस्था की जा रही है।