पचपदरा तीन दिन में रिफाइनरी पहुंचेंगे रिएक्टर : हाईवे पर ओवर ब्रिज के पास बनाया दूसरा रास्ता, 11 महीने पहले गुजरात से निकले थे ट्रक

0
22
Pachpadara refinery photo
पचपदरा तीन दिन में रिफाइनरी पहुंचेंगे रिएक्टर : हाईवे पर ओवर ब्रिज के पास बनाया दूसरा रास्ता, 11 महीने पहले गुजरात से निकले थे ट्रक

राजस्थान की आवाज//तिलोक पटेल

पचपदरा में चल रहे रिफाइनरी कार्य में देश और विदेशों में बनी बड़ी बड़ी मशीनरी लाई जा रही है। सैकड़ों टन वजनी ये मशीनरी रिफाइनरी की अहम कड़ी मानी जा रही हैं। देश की सबसे अत्याधुनिक बीएस 6 मानक की रिफाइनरी कार्य में करीब 65 हजार करोड़ रुपए की लागत आएगी। रिफाइनरी में लगने वाले मुख्य ड्रम नुमा एचडीएस रिएक्टर जो 760 टन वजनी है, जो दोनों ड्रम 11 महीने पहले गुजरात कच्छ के मुद्रा पोर्ट से रवाना हुए थे, जिन्होंने शनिवार को पचपदरा रिफाइनरी के समीप से गुजर रहे मेगा हाइवे से निकले। एचडीएस रिएक्टर इतने अधिक वजनी है कि मेगा हाइवे पर बने ओवरब्रिज की क्षमता इनके भार सहन करने की नहीं है।

Reactors will reach the refinery in three days: Another road built near the over bridge on the highway, trucks left Gujarat 11 months ago

मेगा हाईवे पुल के समीप अलग रास्ता बनाया गया। जहां से लेकर गाड़ियां गुजरेगी। शनिवार को शाम इन दोनों वाहन मेगा हाईवे बाईपास के समीप पहुंचे तो सैकड़ों की संख्या में लोगों की भीड़ देखने के लिए उमड़ पड़ी। इस दौरान यातायात को रोक लिया गया, जिससे हाईवे पर वाहनों की लंबी कतारें लग गईं। तकरीबन 3 दिन के भीतर यह पचपदरा रिफाइनरी में पहुंचेंगे। गुजरात के मुद्रा पोर्ट से रवाना हुए दोनों ड्रम 420 टायर की दो गाड़ियों में लाए जा रहे हैं। इसे सुरक्षित लाने में लॉजिस्टिक टीम के 35 सदस्य रास्ते में साइन बोर्ड बिजली तार हटाने सहित सुरक्षित सफर के लिए साथ में रहते हैं। दरअसल जिले के पचपदरा में रिफाइनरी का कर्म तेजी से चल रहा है, जो 2024 तक पूरा होना है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खुद इसकी मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

Reactors will reach the refinery in three days: Another road built near the over bridge on the highway, trucks left Gujarat 11 months ago