Female Prisoner Gave Birth To Daughter In Jodhpur Jail Staff Did Naming – Rajasthan: जेल में जन्मी बेटी का नाम रखा गया ‘भाग्य श्री’, स्टाफ ने प्रसूता को बनाकर खिलाए घी-अजवाइन के लड्डू

0
4

जोधपुर सेंट्रल जेल।

जोधपुर सेंट्रल जेल।
– फोटो : सोशल मीडिया

ख़बर सुनें

राजस्थान के जोधपुर जिले की सेंट्रल जेल में एक महिला बंदी ने बेटी को जन्म दिया। उसका नाम ‘भाग्य श्री’ रखा गया है। प्रसव पीड़ा होने पर महिला को उम्मेद अस्पताल में भर्ती करायाग गया था। अब जेल स्टाफ द्वारा महिला और उसकी बेटी का ख्याल रखा जा रहा है। जेल प्रशासन ने महिला को खाने के लिए पौष्टिक खाद्य सामग्री भी उपलब्ध कराई गई है। 

दरअसल, हत्या के आरोप में गिरफ्तार की गई महिला जैसलमेर की रहने वाली है। पुलिस ने जब उसे गिरफ्तार किया था तब वह गर्भवती थी। उसकी हालात को देखते हुए उसे जैसलमेर से जोधपुर की महिला जेल में शिफ्ट कर दिया था। उसके माता-पिता भी जेल में बंद हैं। महिला दो बेटों की मां है, तीसरी संतान के रूप में उसने एक बेटी को जन्म दिया है। 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दो अक्टूबर को महिला को प्रसव पीड़ा होने के बाद शहर के उम्मेद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां उसने बेटी को जन्म दिया। जन्म के बाद जेल में बच्ची का नामकरण किया है। उसका नाम ‘भाग्य श्री’ रखा गया है। हालांकि, जेल में बंद होने के कारण प्रसूता को सरकारी योजनाओं का लाभ और सहायता नहीं मिल सकी है। 

जोधपुर सेंट्रल जेल के प्रशासन की ओर से महिला और नवजात बच्ची का ध्यान रखा जा रहा है। प्रशासन की ओर से प्रसूता को देसी घी और अजवाइन के लड्डू बनाकर दिए गए हैं। साथ ही एक अन्य महिला बंदी को उसकी देखभाल में लगाया गया है। प्रसूता और उसकी बच्ची दोनों पूरी तरह से स्वस्थ्य हैं।  

विस्तार

राजस्थान के जोधपुर जिले की सेंट्रल जेल में एक महिला बंदी ने बेटी को जन्म दिया। उसका नाम ‘भाग्य श्री’ रखा गया है। प्रसव पीड़ा होने पर महिला को उम्मेद अस्पताल में भर्ती करायाग गया था। अब जेल स्टाफ द्वारा महिला और उसकी बेटी का ख्याल रखा जा रहा है। जेल प्रशासन ने महिला को खाने के लिए पौष्टिक खाद्य सामग्री भी उपलब्ध कराई गई है। 

दरअसल, हत्या के आरोप में गिरफ्तार की गई महिला जैसलमेर की रहने वाली है। पुलिस ने जब उसे गिरफ्तार किया था तब वह गर्भवती थी। उसकी हालात को देखते हुए उसे जैसलमेर से जोधपुर की महिला जेल में शिफ्ट कर दिया था। उसके माता-पिता भी जेल में बंद हैं। महिला दो बेटों की मां है, तीसरी संतान के रूप में उसने एक बेटी को जन्म दिया है। 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दो अक्टूबर को महिला को प्रसव पीड़ा होने के बाद शहर के उम्मेद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां उसने बेटी को जन्म दिया। जन्म के बाद जेल में बच्ची का नामकरण किया है। उसका नाम ‘भाग्य श्री’ रखा गया है। हालांकि, जेल में बंद होने के कारण प्रसूता को सरकारी योजनाओं का लाभ और सहायता नहीं मिल सकी है। 

जोधपुर सेंट्रल जेल के प्रशासन की ओर से महिला और नवजात बच्ची का ध्यान रखा जा रहा है। प्रशासन की ओर से प्रसूता को देसी घी और अजवाइन के लड्डू बनाकर दिए गए हैं। साथ ही एक अन्य महिला बंदी को उसकी देखभाल में लगाया गया है। प्रसूता और उसकी बच्ची दोनों पूरी तरह से स्वस्थ्य हैं।  

Source link