गंगरार कस्बे के किले के कुए में मिली एक युवक की सिर कटी लाश बहिन ने ही कटवाया था भाई का गला

0
4
गंगरार में बहन ने काटा भाई का गला
गंगरार कस्बे के किले के कुए में मिली एक युवक की सिर कटी लाश बहिन ने ही कटवाया था भाई का गला

गंगरार कस्बे के किले के कुए में मिली एक युवक की सिर कटी लाश बहिन ने ही कटवाया था भाई का गला

 

गंगरार में बहन व प्रेमी ने मिलकर रचा था हत्या का षड़यंत्र दृश्यम फिल्म की तर्ज पर दिया हत्या को अंजाम भाई को उतारा मौत के घाट

 

पिछले दिनों गंगरार कस्बे के किले के कुए में मिली एक युवक की सिर कटी लाश के मामले में गंगरार थाना पुलिस ने खुलासा कर दिया है और इस मामले में मृतक की बहिन सहित उसके प्रेमी और दो आरोपियों को गिरफ्तार कर एक बाल अपचारी को डिटेन किया है। युवक की हत्या मृतक की बहिन ने ही अपने प्रेमी से मिलकर करवाई थी। मरने वाला युवक बहिन की शादी अपनी बिरादरी में करना चाहता था लेकिन आरोपी बहिन अपने प्रेमी के साथ जाना चाहती थी। पुलिस अधीक्षक राजन दुष्यंत ने बताया कि गत 5 दिसम्बर को हनुमान मंदिर के पीछे पहाड़ी की ढलान पर एक कुए में अज्ञात व्यक्ति का सिट कटा हुआ धड़ मिला था और दूसरे दिन उसका सिर भी कुए से बरामद हुआ। इस मामले में पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज किया था और युवक की शिनाख्त मध्यप्रदेश के एरिया थाना घरोट जिला मंदसौर के महेन्द्र पुत्र गोविन्द रायका (23) के रूप में की थी जो वर्तमान में गंगरार के भाट खेड़ा में अपने मामा शांतिलाल रायका के यहां रह रहा था। इस मामले में मृतक के मामा ने हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए टीम का गठन किया और साक्ष्य एकत्र कर आज उसका खुलासा कर दिया।

 

पुलिस के अनुसार मृतक महेन्द्र की बहिन तनू उर्फ तनिष्का अपने प्रेमी गंगरार निवासी महावीर धोबी के साथ जाना चाहती थी जबकि उसका भाई उसकी अपनी बिरादरी में ही शादी करवाना चाहता था और मृतक की बहिन तनु ने अपने प्रेमी महावीर से मिलकर हत्या की घटना को अंजाम दिया। पुलिस ने जांच पड़ताल करते हुए महावीर धोबी की गतिविधियों पर नजर रखी और संदिग्ध गतिविधियां पाये जाने पर उसे डिटेन पर गहनता से पूछताछ की तो उसने अपने साथी 20 वर्षीय महेन्द्र पुत्र पन्नालाल धोबी व एक बाल अपचारी के साथ मिलकर हत्या करना कबूल कर लिया। पुलिस ने इस मामले में बाल अपचारी को डिटेन करते हुए मृतक महेन्द्र की बहिन तनु उर्फ तनिष्का पुत्री गोविन्द रायका, महावीर धोबी, महेन्द्र धोबी को गिरफ्तार कर लिया है।

तनिष्का की बहिन आरोपी ने बांधी राखी, फिल्म देखकर बनाया प्लान

इस दौरान आरोपी महावीर धोबी ने पुलिस की पूछताछ में खुलासा किया कि तनु और उसके संबंध बनने के बाद दो साल पहले उसकी छोटी बहिन से उसने राखी बंधवाकर धर्म भाई बनवाया और उसके बाद घर आने-जाने का रास्ता खोल दिया। इसी दरमियान महावीर धोबी ने तनिष्का से 40 हजार रूपये उधार भी लिए इसकी जानकारी उसके भाई महेन्द्र को लगी तो वो घर आने के लिए मना करने लगा और रूपयों का भी तकाजा किया। बार-बार रूपये मांगने और बातचीत नहीं करने देने से तनिष्का और महावीर दोनों ही नाराज हो गए और दृश्यम फिल्म के आधार पर मौत की साजिश रची और आखिर उसकी हत्या कर दी।

यूं दिया वारदात को अंजाम

11 नवम्बर को मंदसौर के ढाबों पर काम करते हुए महेन्द्र रायका अपने घर आया था और दूसरे दिन तनु और उसकी छोटी बहिन के साथ बुआ के घर जन्मदिन की पार्टी में घर जाना था तो महावीर धोबी अपनी वैन में बिठाकर चित्तौड़गढ़ तक छोड़ गया था। इसी दिन तनु ने आरोपी महावीर धोबी को कहा कि महेन्द्र घर आ गया और हम कोटा से लौटेंगे उस दिन उसे मारना है। 16 नवम्बर को तनु और उसकी बहिन कोटा से आ रही थी जहां प्लान के अनुसार तनु से अपने भाई महेन्द्र को मोबाइल पर फोन करके बोला कि मैं आ रही हूं तू महावीर की मोटरसाइकिल लेकर गंगरार चौराहे पर आ जाना, लेकिन महेन्द्र घर से दिन के समय पैदल ही गंगरार रवाना हो गया। यह बात तनु ने महावीर को बताई तो महावीर खुद वैन लेकर भाट खेड़ा की तरफ गया और महेन्द्र रायका को बिठाकर ले आया और किले के हनुमान मंदिर के पास चला गया। इस दौरान उसने अपने साथी महेन्द्र धोबी और एक बाल अपचारी को बुलाया और किले पर बैठकर गांजा पिया फिर महेन्द्र को वैन में बिठाकर सारणेश्वर मंदिर से आगे सूनसान जगह पर ले जाकर गमछे से गला घोंट दिया और बिजली के वायर से हाथ-पैर बांध दिये। हत्या करने के बाद रात्रि करीब 10-11 बजे लाश को किले पर ले जाकर कुए में डाल दिया और अपने घर चले गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here